#revolt

11 quotes

तेरा फितूर भी हमने इख़लास से निभाया..
फना होने की रुत पे भी आशिक़ तेरा था मुस्कुराया..
हयात से मिट जाने के लम्हे में न तुझे भुला पाया.
न तेरी रुस्वाई..न मेरे रक़ीब का कहर मुझपे इख्तयार कर पाया...

अब क़यामत के रोज़ भी न चाहना मुझे तू..
वो मोहब्बत मेरी थी..उसमे तेरा क्या था?
तू बस गवाह थी इस कहानी में मेरी..
ये मोहब्बत सिर्फ मेरी थी...ये क़ाफ़िला सिर्फ मेरा था..

#YQbaba #YQdidi #burningdesire #revolt तेरा फितूर भी हमने इख़लास से निभाया.. फना होने की रुत पे भी आशिक़ तेरा था मुस्कुराया.. हयात से मिट जाने के लम्हे में न तुझे भुला पाया. न तेरी रुस्वाई..न मेरे रक़ीब का कहर मुझपे इख्तयार कर पाया... अब क़यामत के रोज़ भी न चाहना मुझे तू.. वो मोहब्बत मेरी थी..उसमे तेरा क्या था? तू बस गवाह थी इस कहानी में मेरी.. ये मोहब्बत सिर्फ मेरी थी...ये क़ाफ़िला सिर्फ मेरा था.. Image source ~ google

6 APR AT 0:36