#YQdidi

22015 quotes

यहा आए तो जाना हर कोई किसी गम का शिकार हैं 
दर्द भरी दुनिया में भी जोड़ने वाला कोई हैं 
कौन कहता हैं दर्द सुनने वाला कोई नहीं 
इस दुनिया में हर कोई अपना हैं 
जो रिश्ता सबको जोड़के रखता हैं 
वो दर्द का ही तो रिश्ता हैं

#YQdidi#YQbaba#people#friends

9 MINUTES AGO

बहुत सम्भाल कर रक्खा था जिसे,
बचपन से मेरे साथ था वो...
दिन-रात आँखों में पलता था...
उसको दफना आया था मैं,

कड़कती सर्दियों में, बगैर कम्बल के फुटपाथ पर
मेरे सिरहाने बैठकर गर्मी देता था मुझे,
तपती लू में, किसी सर्द हवा सा छूता था वो मुझे...
मेरी उम्र भर की थकन, उसे देखकर मिट जाती थी...

हाँ...था वो एक ख़्वाब...
अपनी दिल की तिजोरी में रक्खा था जिसे मैंने...
कुछ रोज़ पहले...मेरी गरीबी ने क़त्ल कर दिया उसे...

कल तेरहवीं है उस ख़्वाब की
आप भी आइयेगा...

मेरी खपड़ैल से धूप छनेगी 
मेरी मिट्टी वाले घर की ज़मीन पर बहुत सी बर्फियां बनेंगी 
दिन में आइयेगा हुज़ूर 
रात में मैं आपको ये भी नहीं दे पाऊंगा

वैसे कल न भी आ पाए 
तो खुद को गलत मत समझियेगा...
धूप परसो भी निकलेगी 
बर्फियां परसो भी बनेंगी
एक ख़्वाब की तेरहवीं परसो भी होगी 
फिर उसके बाद भी...
फिर उसके बाद भी...

#Chiraagh #Nazm #YQbaba #YQdidi #poem बहुत सम्भाल कर रक्खा था जिसे, बचपन से मेरे साथ था वो... दिन-रात आँखों में पलता था... उसको दफना आया था मैं, कड़कती सर्दियों में, बगैर कम्बल के फुटपाथ पर मेरे सिरहाने बैठकर गर्मी देता था मुझे, तपती लू में, किसी सर्द हवा सा छूता था वो मुझे... मेरी उम्र भर की थकन, उसे देखकर मिट जाती थी... हाँ...था वो एक ख़्वाब... अपनी दिल की तिजोरी में रक्खा था जिसे मैंने... कुछ रोज़ पहले...मेरी गरीबी ने क़त्ल कर दिया उसे... कल तेरहवीं है उस ख़्वाब की आप भी आइयेगा... मेरी खपड़ैल से धूप छनेगी मेरी मिट्टी वाले घर की ज़मीन पर बहुत सी बर्फियां बनेंगी दिन में आइयेगा हुज़ूर रात में मैं आपको ये भी नहीं दे पाऊंगा वैसे कल न भी आ पाए तो खुद को गलत मत समझियेगा... धूप परसो भी निकलेगी बर्फियां परसो भी बनेंगी एक ख़्वाब की तेरहवीं परसो भी होगी फिर उसके बाद भी... फिर उसके बाद भी... © अभिनन्दन "चिराग़"

AN HOUR AGO