Harsh Snehanshu

665

quotes

6884

followers

5805

following

Harsh Snehanshu (हर्ष स्नेहांशु)

I write about simple things that often miss one's eyes in a very simple language. Striving to be simpler with time and experience. Started out as a writer. Realised there are no good writing platforms for smartphones. Started YQ with Ashish. Now on a mission to make the world write. My last book, Green Mango More: Stories from Childhood (2015), is a collection of 36 funny tales from my childhood. Link below.

bit.ly/GreenMangoMore

Top tags: poem love balconyletters napowrimo yopowrimo
समीप - एक कहानी

समीप - वो कहते थे हिंदी नहीं आती है उनको ढंग से लिख या बोल नहीं पाते हैं अंग्रेज़ी में लिखते, अंग्रेजी में गाते अंग्रेजी में सोते, अंग्रेजी में जागते यहाँ तक कि सपने भी अंग्रेजी में ही देखते उनका एक छोटा सा बच्चा था उनके बाबूजी ने बड़े प्यार से उसका नाम रखा था - समीप पर जैसे ही उनके बाबूजी गुज़रे उन्होंने समीप को सैम में बदल दिया सैम को उन्होंने अमरीका भेजा था पढ़ने के लिए। कल ही सैम आया वापस, साथ में एक अंग्रेज़ दुल्हन लिए, जो उनकी देसी अंग्रेजी सुन कर हस पड़ी। सैम भी अपनी मुस्कान दबा ना पाया वो भौचक देखते रह गए। सालों बाद, कल जाकर बाबूजी की याद आई उन्हें बीस साल बाद मालूम हो रहा था कि सैम अब समीप नहीं रहा #yqdidi #yqtales

24 MAY AT 10:28

The heaviest of words
when spoken in
the lightest of tone
show not equanimity
but indifference.

Thank god, 
you get angry with me,
time and again,
reminding that you expect
only because you love.

Great Expectations. #YoPoWriMo #love P.S. Being at the receiving end of indifference is worse than being at the receiving end of attachment.

23 MAY AT 11:28

My life story in one line.

A graduate living a dropout's life.

Thanks for the #onelinelifestory challenge, Arvind Ravichandran. Write your own with the hashtag.

23 MAY AT 10:28